इन बाल कविताओ को पढ़कर आपका बच्चा खुशी से झूम उठेगा (Your child will be happy to read these childish poems.)

प्रेम नारायण बाजा बजाता

प्रेम नारायण बाजा बजाता ।
सीरी री री सीरी री री सिटी बजाता।
प्रेम नारायण बाजा बजाता।
ढम ढम ढम ढम ढोलक बजाता।
प्रेम नारायण बाजा बजाता ।
पीरी री री पीरी री री बंसी बजाता।
प्रेम नारायण बाजा बजाता ।
ताक धिना धिन तबला बजाता ।
सा रे ग म प ध नि सा हारमोनियम बजाता ।
छन छन छन छन घुंघरू बजाता ।
झन झन झन झन झांझ बजाता।
प्रेम नारायण बाजा बजाता ।

डाकिया

देखो एक डाकिया आया ।
साथ में अपना थैला लाया।
खाकी टोपी खाकी वर्दी ,
आकर उसने चिट्ठी फेंकी ।
संदेशा शादी का लाया ।
शादी पर हम भी जाएंगे ।
खूब मिठाई खाएंगे ।

मुर्गा बोला

मुर्गा बोला कुकड़ू कु
चल मेरे भैया रुकता क्यों
कुत्ता भोंके भो भो भो
अटकी गाड़ी पो पो पो पो ।
बकरी आई ,बिल्ली आई।
मैं मैं आई ,म्याऊं म्याऊं आई ।
धक्की गाड़ी धो धो धो ।
चलती गाड़ी पो पो पो ।

हाथी

हाथी आया झूम के
धरती मां को चूम के।
टांगे इसकी मोटी है
आंखें इसकी छोटी है ।
गन्ने पत्ती खाता है
लंबी सूट हिलाता है।
सुपर जैसे इसके कान
देखो देखो इसकी शान।

चूहे चाचा

चूहे चाचा पहन पजामा
दावत खाने आए ।
साथ में चुहिया चाची को भी
सैर कराने लाए।
दावत में कपड़ों की कतरन
उत्तर कुतर कर
कुतर कर कर खाए ।
चूहे चाचा कूद कूद कर ।
ढम ढम ढोल बजाए ।

चुन्नू मुन्नू दोनों भाई

चुन्नू मुन्नू दोनों भाई ।
रसगुल्ले पर हुई लड़ाई।
मुन्नू बोला मैं भी लूंगा ।
इतने में ही दीदी आई ।
दीदी ने दो चपत लगाई।
ऐसा झगड़ा कभी ना करना।
दोनों मिलकर प्रेम से रहना

Leave A Reply

Your email address will not be published.