स्काउटिंग में दल या कम्पनी रचना (Troop Formation)

0

स्काउटिंग में दल या कम्पनी रचना (Troop Formation)

दल/कम्पनी को खड़ा करने अर्थात् रचना करने के अनेक तरीके है। हाथ के संकेतों से यह कार्य बिना आवाज़ किये किया जा सकता है। दल/कम्पनी की कुछ प्रमुख रचनायें (सजावट) निम्न प्रकार की जा सकती हैं।

1. एक कतार रचना (single line Formation) –

इसमें सभी टोलियाँ क्रमशः एक ही कतार में लीडर के सामने खड़ी होती है। दोनों हाथ कंधे की सीध में तानते हुए मुट्ठी नीचे की ओर संकेत पर-एक कतार बनती है। यदि एक तरफ का हाथ कुछ नीचा हो तो बड़े दाहिनें-छोटे बायें और यदि एक हाथ कंधे से कुछ ऊंचा हो तो बड़े बाँयें और छोटे दाहिने कदवार खड़े होते हैं।

2. निकट कतार रचना (close Columen Formation)-

दोनों हाथ लम्बवत् कुहनी से ऊपर को मुट्ठी अन्दर की ओर के संकेत पर टोलियाँ एक दूसरे से 30” अथवा एक हाथ का फासला लेकर एक टोली के पीछे दूसरी टोली खड़ी होती है। दल नायक कम्पनी लीडर सबसे आगे मध्य में, टोली नायक दायें सहायक अन्तिम छोर पर बायें और दाँये से बायीं ओर को एक हाथ का फासला लेकर स्काउट/गाइड खड़े होते हैं।

3. खुली कतार रचना (open Columen Formation)-

दोनों हाथ कन्धे की सीध में दोनों तरफ कोहनी से ऊपर को समकोण बनाते हुए तथा मुट्ठी अंदर की ओर के संकेत पर टोलियाँ एक दूसरे के पीछे दो कदम के फासले पर निकट कतार रचना की भांति खड़ी होती हैं। यह स्थिति विशेषकर निरीक्षण के समय अपनाई जाती है।

4. टोलीवार रचना (Rows Formation)

दोनों हाथ आगे की ओर समान्तार फैलाते हुए, मुट्ठी नीचे की ओर के संकेत पर-टोलियाँ क्रमशः अपनी टोली नायक के पीछे आगे से एक हाथ का फासला लेकर खड़ी होती जाती हैं। सबसे आग टोली नायक सबसे पीछे सहायक खड़ा होता है।

5. नालाकार रचना (Horse Shoe Formation)-

यह विधि अधिकतर दल कम्पनी द्वारा प्रार्थना, ध्वजरोहण के समय अपनाई जाती है। इसमें कमर के आगे दोनों हाथ क्रॉस करते हुए हिलाये जाते हैं, टोली नायक टोली के दाँयी तरफ और सहायक अन्त में खड़ा होता है। एक टोला और दूसरी टोली के मध्य समान दूरी होती है

6. तौरनुमा रचना (Arrow Formation)-

साइकिल की तिलियों की भांति खड़ी होती है। टोली नायक अर्द्धवृत में और स्काउट/गाइड उनके पीछे एक हाथ का फासला लेकर खड़े होते जाते हैं । इस रचना के लिये दोनो हाथ 30°का कोण बनाते हुए सिर पर इस प्रकार रखे हों कि अंगुलियाँ सिर पर हों।

7. वृत्ताकार रचना ( Circle Formation)

इस सजावट का प्रयोग अधिकतर घेरे के खेल खिलाने में होता है। इसमें लीडर केन्द्र में और स्काउट/गाइड वृत्ताकार घेरे में खड़े होते हैं। इसके संकेत के लिये दोनों हाथों को कमर के पास आगे-पीछे वृत्ताकार हिलाया जाता है।

8. आयताकार रचना (Hollow Square Formation)-

दोनों हाथों को चेहरे के आगे मुट्ठी बांधकर मिलाया जाता है। इस संकेत पर टोलियाँ आयताकार खड़ी होती है। लीडर चौथी भुजा पर खड़ा होता है। टोली नायक दाँये और सहायक अन्तिम छोर पर खड़ा होता है।

बी.पी. ने टोली की हाइक में जाते समय एक और फॉर्मेशन बताई है-पंतग (Kite) फॉर्मेशन।

इसमें टोली नायक नं. 1 मध्य में, 2 आगे, 3 नायक के पीछे, 4 और 5 दाँयें-बायें और 6 नं.टोली नायक के साथ मध्य में। टोली में आठ की संख्या में 1 व 8 मध्य, 2 और 6 आगे, 3 और 7 पीछे जबकि 4 व 5 दाँये व बाँयीं तरफ रहते हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.