सूर्य नमस्कार एक उपयोगी व्यायाम

सूर्य नमस्कार एक उपयोगी व्यायाम

सूर्य नमस्कार युवक-युवतियों के लिये बहुत ही उपयोगी व्यायाम है। यह व्यायाम अनेक आसनों का मिला-जुला रूप है। यदि व्यक्ति बी.पी. के 6 व्यायाम और सूर्य नमस्कार कर ले तो सभी अंगों का व्यायाम हो जाता है। सम्पूर्ण शरीर को आरोग्य, शक्ति व ऊर्जा प्राप्त होती है। सूर्य नमस्कार को प्रतिदिन 10 से 20 बार यथाशक्ति करना चाहिए।

ध्यान रखें- जब सीना नीचे हो तो श्रांस बाहर निकालें और सीना ऊपर उठे तब श्वांस अन्दर लें।

सूर्य नमस्कार की स्थितियां-

सूर्य नमस्कार एक उपयोगी व्यायाम
सूर्य नमस्कार एक उपयोगी व्यायाम

(1.) सूर्य की ओर मुख करके सीधे खड़े हों। दोनों हाथ जोड़कर, अंगूठे सीने से लगा लें और नमस्कार की स्थिति में खड़े हों। दोनों एडी साथ मिलाकर, मन शांत, आंखें बंद व
ध्यान दोनों आंखों के बीच में हो।

(2.) श्वांस को अन्दर भरते हुए दोनों हाथों को सामने की ओर से ऊपर उठाते हुए कानों से सटाते हुए पीछे की ओर ले जायें। हाथों के साथ शरीर को पीछे की ओर झुकाने का प्रयास करें। नजर आकाश की ओर रहे। पैर स्थिर रखें।

(3.) श्वांस को बाहर निकालते हुए हाथों को कानों से सटाते हुए आगे की ओर झुकें, पैर-सीधे, हथेली से जमीन को स्पर्श करने का प्रयास करें, यदि संभव हो तो सिर को घुटनों से लगाने का प्रयास करें। झटका न दें।

(4.) श्वांस को अन्दर लेते हुए, बायें पैर को पीछे दूर तक ले जायें। दाहिना पैर मुड़कर छाती के सामने रहेगा। हाथों की दोनों हथेली जमीन पर टिकी हुई, गर्दन व सिर सामने की ओर खिंचा हुआ। दृष्टि आकाश की ओर रहेगी।

(5.) श्वांस बाहर निकालते हुए, दाहिने पैर को बांए पैर की ओर ले जाते हुए सिर, गर्दन दोनों हाथों के बीच में, नितम्ब व कमर ऊपर उठे हुए हों, शरीर का पूरा भार, दोनों हथेलियों व पंजों पर होगा।

(6.) श्वांस-प्रश्वांस सामान्य, शरीर को पृथ्वी के समानांतर लायें, छाती व घुटने जमीन पर लगाएं परंतु पेट हल्का सा जमीन से ऊपर रहे। सिर थोड़ा ऊंचा रहे।

(7.) श्वांस अन्दर भरते हुए कोहनियों को सीधा कर दें। छाती आगे की ओर निकालें । नजर आकाश की ओर रहे। गर्दन पीछे की ओर करें।

(8.) श्वांस भरकर, घुटनों को सीधा करें। सिर को हाथों के बीच अंदर की ओर लाएं। शरीर को पांचवीं स्थिति में लाएं।

(9.) शरीर को चौथी स्थिति में लाएं, लेकिन इस में दाहिना पैर पीछे की ओर जायेगा, बांया पैर आगे जायेगा व छाती के सामने रहेगा।

(10.) शरीर को तीसरी स्थिति में लाएं।

(11.) शरीर को दूसरी स्थिति में लाएं।

(12.) शरीर को प्रथम स्थिति में लाएं! श्वास को अंदर लेवें। अन्त में हाथ नीचे करके आराम की स्थिति में आ जावें।

ॐ मित्राय नमः
om mitrāya namah
Prostration to Him who is affectionate to all.
ॐ रवये नमः
om ravaye namah
Prostration to Him who is the cause for change.
ॐ सूर्याय नमः
om süryaya namah
Prostration to Him who induces activity.
ॐ भानवे नमः
om bhanave namah
Prostration to Him who diffuses Light.
ॐ खगय नमः
om khagaya namah
Prostration to Him who moves in the sky.
ॐ पूष्णे नमः
om püsne namah
Prostration to Him who nourishes all.
ॐ हिरण्यगर्भाय नमः
om hiranyagarbhaya namah
Prostration to Him who contains everything.
ॐ मरीचये नमः
om maricaye namah
Prostration to Him who possesses rays.
ॐ आदित्याय नमः
om adityāya namah
Prostration to Him who is God of gods.
ॐ सवित्रे नमः
om savitre namah
Prostration to Him who produces everything.
ॐ अकाय नमः
om arkaya namah
Prostration to Him who is fit to be worshipped.
ॐ भास्कराय नमः
om bhaskarāya namah
Prostration to Him who is the cause of lustre.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply