स्काउट-गाइड बैज प्रणाली

0

स्काउट-गाइड बैज प्रणाली

बैज प्रणाली के द्वारा बालक/बालिका की सहज आवश्यकताओं की पूर्ति की जा सकती है । इसीलिये
बेडन पावल ने स्काउटिंग में इसे मान्यता प्रदान की है। दक्षता बैज प्राप्त करना स्काउट-गाइड के आगे बढ़ने को प्रदर्शित करता है। जब स्काउट-गाइड अपनी वदी पर विभिन्न बैज लगाकर चलते हैं तो अपने आप पर गर्व और अपनी प्रगति पर आनन्द का अनुभव करते हैं।
बैज, स्काउट-गाइड के आगे बढ़ने का प्रमाण है।


जो यह बताता है कि उक्त स्काउट-गाइड ने इस विषय में दक्षता प्राप्त कर इसे अर्जित किया है । यह उनके सीखने और समझने को प्रदर्शित करता है और एक स्काउट-गाइड को अधिक सीखने और आगे बढ़ने के लिये प्रेरित करता है। स्काउटिंग में बालक-बालिका को प्रारंभ से ही
सुनागरिकता के लिये प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है । प्रशिक्षण की अन्य पद्धतियों के साथ ही बैज प्रणाली एक सहज एवं सुगम तरीका है। स्काउट-गाइड, बैज प्राप् करने की चाह में
संबंधित बैज का पाठ्यक्रम पूरा कर, अपने ज्ञान व कौशल में वृद्धि करते हैं।


स्काउट-गाइड जिस कला में कमजोर होते हैं उससे संबंधित बैज को प्राप्त करने हेतु यूनिट लीडर उन्हें प्रेरित करते हैं ताकि उनका चहुँमुखी विकास हो सके आगे बढ़ना सैद्धान्तिक रूप से इस बात का प्रमाण है कि स्काउट-गाइड क्या करने की योग्यता रखते हैं। यह उनका पुरस्कार नहीं है। उनकी योग्यता को दशाता है ।

बैज दो प्रकार के होते हैं-

1.योग्यता बैज- प्रवेश, प्रथम सोपान, द्वितीय सेोपान,
तृतीय सोपान, राज्य पुरस्कार व राष्ट्रपति अवार्डआदि।

  1. दक्षता बैज : ए.पी.आर.ओ. भाग 2 व 3 के
    अनुसार इनको पांच समूहों में विभाजित किया गया है ।

स्काउट-गाइड विभाग में बालक-बालिकाओं के चहंमुखी विकास के आधार पर इनका बटवारा निम्नानुसार किया जाता है ।

चरित्र निर्माण संबंधी – गार्डनर, कैम्पर फ्रैंड टू एनीमल्स, स्कॉलर आदि।

स्वास्थ्य से संबंधित- एम्बुलैंस मैन/एम्बुलैंस, हैल्थ, पब्लिक हैल्थ, एथलेटिक्स, साइकिलिस्ट, स्वीमर आदि ।

कला कौशल से संबंधित- बास्केट वर्कर, आर्टिस्ट, कारपेन्टर, बुक बाइंडर आदि।

समाज सेवा से संबंधित- सिविल डिफैंस, फोरेस्टर, आपदा प्रबंधक, पथ-प्रदर्शक, कम्यूनिटी वर्कर आदि ।

संरक्षण व तकनीकः विश्व संरक्षण, विश्वमैत्री, भूसंरक्षण, इलैक्ट्रोनिक्स व कम्प्यूटर अवेयरनेस आदि

बालक-बालिका की सहज प्रवृत्ति होती है कि वह अधिक से अधिक बैज अपनी वर्दी पर लगावे। इसके लिये आवश्यक है कि योग्य प्रशिक्षक का उन्हें मार्गदर्शन मिले एवं तैयारी के बाद उसकी जांच समय पर ले ली जावे। दक्षता बजों का विस्तृत पाठ्यक्रम स्काउट्स के लिये ए.पी.आर. ओ. भाग-2 व गाइड्स के लिये भाग-3 में दिया गया है। ये बैज स्थानीय एसोसिएशन द्वारा नियुक्त स्वतंत्र परीक्षकों को परीक्षा देकर प्राप्त किए जा सकते हैं।
जांच- 1 = गा.आकांक्षी स्काउट/गाइड, आंदोलन की पूरी जानकारी रखते हों।

स्काउट/गाइड बैज

बैज या प्रतीक का कोई गुण अर्थ आवश्यक होता है जैसे कनाडा के स्काउट-के तीन शीर्ष-नियम, प्रतिज्ञा, सिद्धान्त साथ ही साथ ईश्वर के प्रति कर्तव्य, दूसरों के प्रति कर्तव्य तथा स्वंय के प्रति कर्तव्य के द्योतक है।
प्रतीक या बैज का प्रचलन अनाधिकार से होता रहा हैै। बैज से पदोें की जानकारी होती है, फौज तथा पुलिस में बैजों से यह कहा जा सकता है कि अमुक व्यक्ति किसी पद का है। स्काउट/गाइड तथा स्काउटर्स/गाइडर्स और अन्य अधिकारियों की पद/स्तर की पहचान उनके द्वारा धारण किये पदकों/बैजों से कि जा सकती है।

स्काउटिंग के प्रारम्भिक वर्षों में बी. पी. ने जब स्काउट बैज को तैयार किया तो लोगों में उसके बारे में भ्रान्तियाँ और प्रतिक्रियाँ हुई। उन्होंनंे इस बैज को भले ही नोक जैसा तथा युद्ध और खून खराबे वाला कहकर आलोचना कि। बी. पी. ने इसके प्रत्युत्त्र में कहा- नहीं-यह लिली का फूल है जो शान्ति और पवित्रता का प्रतीक है। इसकी मध्य की पंखु़ड़ी की सीधी रेखा उत्तर दिशा को प्रदर्शित करती है इसका अर्थ है- ठीक दिशा में चलना और ऊँचा उठना।


कपड़े का विश्व स्काउट बैज जामुनी रंग की पृष्ठ भूमि में एक गोलाकारसफेद डोरी से घिरा सफेद त्रिदल का होता है। डोरी के छोर पर चपटी गाँठ लगी होती है। वह 3ः2 के अनुपात का होता है। इसकी तीन पंखु़िड़या प्रतिज्ञा की तीन बिन्दुओं-ईश्वर और देश के प्रति कर्तव्य-पालन, दूसरों की सहायता तथा स्काउट नियम का परिपालन की परिचायक है।

मध्य-पंखुड़ी पर बनी कम्पास की सूई की तरह की रेखा जीवन क्षेत्र. में सही दिशा अपनाकर उन्न्ति करते रहने की परिचायक है। नियम और प्रतिज्ञा रूपी मार्गदर्शक दो सितारे अपनी दोनों आँखें खुली रखते हुये सच्चाई और ज्ञान की राह पर चलने का संकेत करते है। गोलाकार सफेद डोरी विश्व व्यापी संगठन तथा उसमें लगी चपटी (डाॅक्टरी) गाँठ इस बात का उद्घाटन करती है कि सब भी संगठन फैली-भाई चारे की गाँठ कसती चली जाये। सफेद रंग पवित्रता तथा जामुनी रंग नेत्र का विकास और सेवा का परिचायक है।


यह कपडे़ अथवा धातु का बनाया जा सकता है स्काउट इसे अपनी दाहिनी जेब पर सदस्यता बैज की तरह लगाते है। कोई भी दीक्षा प्राप्त स्काउट/स्काउटर अथवा अधिकारी इसे ग्रहण कर सकता ळें

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.