कूड़ा निस्तारण प्रोजेक्ट स्वच्छता अभियान

0

कूड़ा निस्तारण प्रोजेक्ट स्वच्छता अभियान (अपने विद्यालय, स्काउट मुख्यालय में)

स्काउट/गाइड आवश्यकतानुसार नगर, ग्राम, बाजार, मेले आदि सार्वजनिक स्थलों पर एक अभियान के रूप में स्वच्छता का कार्य करते हैं। किसी सार्वजनिक स्थल को चुनकर वे साप्ताहिक या मासिक उसकी सफाई व्यवस्था करते हैं। सार्वजनिक स्थल की स्वच्छता के निम्नलिखित कार्य किए जा सकते हैं-

1. किसी पार्क को अपना लेना।
2. किसी बस्ती में वहाँ के निवासियों के साथ कार्य करना।
3. किसी गाँव को अपनाकर ग्रामवासियों के साथ कार्य करना।
4. किसी तालाब जिसमें मच्छर पल रहे हों उसे सुखा देना।
5. पोखर-गड्ढों को पाटना।
6. मच्छर पलने के स्थान पर मिट्टी का तेल (केरोसिन) छिड़कना।
7. किसी बस्ती के हर घर को शिक्षित करना कि व कूड़ा करकट किसी टिन में ढककर रखें.
8. यदि किसी सार्वजनिक स्थल पर अधिक कूड़ाकचरा जमा हो गया हो तो उसकी सफाई के लिये नगर स्वास्थ्य अधिकारी से सम्पर्क करना।
9. गाँवों में गोबर व कूड़े को गड्ढों में डालकर कम्पोस्ट खाद बनवाना।

प्रस्तावित विद्यालय अनेक छोटे-छोटे गाँवों के मध्य में स्थिति हैं, अपने कूड़ा निस्तारण प्रोजेक्ट और विद्यालय स्वच्छता अभियान के लिये
स्काउट गाइड टोली द्वारा निकट का गाँव जिसमें 40 घर की छात्रायें पढ़ने इस विद्यालय में आती हैं जिनमें 2 छात्रायें टोली में सम्मिलित हैं।
टोली सभा में निर्णय लिया गया कि सर्वप्रथम विद्यालय की स्वच्छता का अभियान चलाया जाये।

प्रधानाचार्य महोदय से अनुमति लेकर निम्नलिखित कार्यों को सम्पन्न किया गया:-

(1) मैदान में बरसात के बाद ऊगी घास और झाड़ियां साफ की गई।
(2) पानी के नल के पास कीचड़ समाप्त करने के लिये इंट बिछाकर रेत व मिट्टी डालकर उसे सुखा दिया गया तथा चूना डाला गया।
(3) विद्यालय भवन के आस-पास व पीछे की सफाई की गई।
(4) कक्षा कक्षों से निकला कूड़ा जला दिया गया।

टोली ने गाँव से कूड़ा निस्तारण का दूसरा प्रोजेक्ट हाथ में लिया. जिसमें निम्नलिखित कार्य किये गये:-

(1) गाँव वासियों की सहायता से सड़कों पर फेंके कूड़े को हटाया गया।
(2) गंन्दगी फैलाने वाले गड्ढ़ों को पाट दिया गया।
(3)पोखर-तालाबों में मच्छर पलने को रोकने के लिये मिट्टी का तेल डाला गया ।
(4) गाँव वालों को बताया गया कि गोबर को गड्ढों में डालकर किस प्रकार कम्पोस्ट खाद बन जाती है।
(5) ग्रामीणों को स्वच्छता का महत्व व गन्दगी से होने वाली बीमारियों से बचाव का तरीका बताया गया।
(6) कूड़े के ढेर को हटाने के लिये ग्राम प्रधान से सम्पर्क किया गया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.