कोर्ट ऑफ ऑनर (मानसभा)

मान-सभा (Court of Honour) इसे टोली नायक परिषद्, दल-सभा, मान-सभा, कोर्ट ऑफ ऑनर, सी. ओ. एच. आदि नामों से पुकारा जाता है। दल-सभा टोली-विधि का अनिवार्य व अभिन्न अंग है। स्काउटर/गाइडर के निर्देशन में यह दल कम्पनी की एक ऐसी समिति है जो, दल कम्पनी के अनुशासन और कार्यसंचालन एवं वित्त व्यवस्था में सहायक होती है। एक ओर यह अपने सदस्यों के सम्मान की रक्षा करती है, स्वतंत्रता व उत्तरदायित्व की भावना को प्रबल कर बड़ों के प्रति आदर की भावना को सुदृढ़ करती है तो, दूसरी ओर यह व्यक्तित्व का विकास कर सुयोग्य नागरिकों का निर्माण करती है।

संक्षेप में दल सभा निम्नलिखित कार्य करती है-

1. दल का सम्मान तथा स्तर उच्च बनाये रखना।

2. स्काउट/गाइड कार्यक्रमों की रूपरेखा तैयार करना।

3. कार्यक्रमों का कार्यान्वयन व मूल्यांकन करना।

4. स्काउटर/गाइडर की सहायता करना।

5. दल का आय-व्यय बजट तैयार करना।

6. आदर्श नागरिक और नागरिकता की ओर रुझान पैदा करना।

7. राज्य पुरस्कार तथा राष्ट्रपति एवार्ड हेतु संस्तुति करना।

भारतीय गणतंत्र में जिस प्रकार विधायिका, कार्यपालिका और न्याय-पालिका के कर्त्तव्य और अधिकार हैं, ठीक उसी प्रकार दल-सभा के भी तद्नुरूप कार्य तथा अधिकार होते हैं। दल के सुसंचालन के लिए नियम बनाना, उनके अनुसार कार्य कराना तथा नियमों की अवहेलना करने पर दण्डात्मक व्यवस्था करना उस समिति का प्रमुख कार्य है।

स्काउटर/ गाइडर इस समिति में परामर्शक की भूमिका का निर्वहन करते है।

अध्यक्षता-दल नायक सहायक कम्पनी लीडर/सहायक, टोली नायकों में से चयनित व्यक्ति इस सभा की अध्यक्षता करता है और उनमें से चयनित एक सचिव नियुक्त किया जाता है।

सदस्यता- सभी टोली नायक, इस सभा के सदस्य होते हैं। सहायक टोली नायक भी बैठक में उपस्थित हो सकते हैं, पर वे किसी चर्चा या मतदान में भाग नहीं ले सकते। वे अपने टोली नायक के सहयोगी के रूप में कार्य करते हैं। अनुशासनात्मक चर्चा के समय वे उपस्थित नहीं रह सकते।

बैठकें- अध्यक्ष या सचिव के अनुरोध/आदेश पर समय-समय पर बैठकें सम्पन्न की जाती है। प्रत्येक सदस्य को तय स्थान, समय, तिथि व कार्यसूची (एजेण्डा) की विधिवत् सूचना दी जाती है। बैठक की अध्यक्षता, तिथि, समय व स्थान का बैठक पंजिका में अंकन कर सदस्यों की उपस्थिति ली जाती है। बैठक की कार्यवाही प्रार्थना से शुरू कर राष्ट्रगान से समापन की जानी चाहिए। वर्षभर में ऐसी बैठकें आवश्यकतानुसार की जानी चाहिए।

कोर्ट ऑफ ऑनर (मानसभा) मुख्य बातें –

  • इसके सदस्य दल नायक, सहा. दल नायक व टोली नायक होते हैं।
  • इनमें कोई एक सभापति (मान सभा अध्यक्ष) व एक सचिव के रूप में कार्य करता है।
  • सैकिंड को भी सदस्य के रूप में बुलाया जा सकता है।
  • स्काउटर/गाइडर परामर्शदाता के रूप में कार्य करते हैं।
  • मानसभा के कार्य हैं
    • गतिविधियों की योजना बनाना,
    • कार्यों की अनुमति आन्तरिक, वित्तीय व अनुशासन संबंधी मामले पर विचार करना।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply