१० बाल कविताये जिसे पढ़कर उनका मन मोह लेगी (10 kids poems which will read their mind will pleased)

बाल कविताये

(1)

झंडा मुझे बना देना ।

तीन रंगों से सजा देना।

 लाल किले पर जाऊंगा 

जय हिंद,जय हिंद गाऊंगा।

(2)

तितली नन्हीं प्यारी तितली।

 हमको दे दो अपने पर।

 उन्हें लगाकर उड़ जाएंगे 

हम अपनी नानी के घर।।

(3)

काले बादल पानी ला ।

पानी ला गुड़धानी ला ।

भरदे ताल तलैया रे ।

प्यासी मेरी गैया रे।।

(4)

रंग बिरंगी प्यारी चिड़िया।

 सुंदर-सुंदर न्यारी चिड़िया ।

उड़ती क्यारी क्यारी चिड़िया।

 लगती बड़ी दुलारी चिड़िया।।

(5)

मुर्गी मां घर से निकली ।

झोला ले बाजार चली।

 बच्चे बोले ,चे चे चे ,

अम्मा हम भी साथ चलें।।

(6)

मेरी बिल्ली बोली म्याऊं,

 मैंने पूछा री क्या लाऊं ?

बोली हलवा मुझे बना दो ,

थोड़ा उसमें दूध गिरा दो।

(7)

चुहिया रानी कहां चली ?

कोने-कोने गली गली ।

तुम लगती हो बहुत भली 

चलती फिरती मूंगफली।।

(8)

नाना जी ने तोता पाला ,

करता दिनभर गड़बड़झाला ।

मिठू मिठू कहकर गाता,

 पिंजरे में ही दौड़ लगाता ।।

जाने कब करता आराम ,

नाम बताता मिट्ठू राम।।

(9)

उड़े झील से बगुले राजा,

 मछली लगी बजाने बाजा 

पेट पीट कर मेंढक भैया ,

लगे नाचने ता ता थैया।।

(10)

चूहे की यह देखो मूंछ ।

पूछ से लंबी लगती मूंछ।

 मूंछ कुतर दी चुहिया ने

 पकड़ी पूछ बिलैया ने।।

 

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply